“मर्म उसका”

आदत सी बन गयी थी रात जब नींद नहीं आती तब मोबाइल में अपनो के बदले गए profile स्टेटस देखती । उनकी बेटी ने फिर अपनी प्रोफाइल में अपने पापा की तीन पिक्स डाल दी थीं और लिखा था पापा अगले जन्म में भी आप ही मेरे पापा होंगे। मैं उसके पापा की pics बार बार देखती। बड़ा ही आकर्षित व्यक्तित्व था।कुछ महीने पहले बद्रीनाथ से उनकी पत्नी का फ़ोन आया था बहनजी हम बद्रीनाथ पूजने आये हैं । पर्स में एक पर्ची मिली जिसमे आपका फ़ोन नंबर है।इसीलिए आपको फ़ोन लगाया है ।ये बात ग्वालियर छोड़ने के 9 साल बाद हुई थी। लो अपने भाईसाहब से बात करो वे बोलीं। ।हेलो कहने से पहले वे ठहाका लगा कर हंसे जो उनकी ओर आकर्षित करता वे यादव थे । बचपन में स्कूल जाने पर बेटी आरती उन्ही की देखभाल में रहती और आरती को हम आरती यादव के नाम से बुलाते। Mrs. Yadav एक घरलू महिला थी।पूरी तरह से Mr. Yadav की सेवा में भी तल्लीन। उनके कपड़े ऐसे सलीके से रखतीं जैसे हर रोज venish से धुले हों । घर मे ही iron करतीं। उनके पास बैठने पर चर्चा केवल यादव साहब की ही होती। पिछले महीने मैंने फ़ोन लगाया बोली तुम्हारे भाई साहब की तबियत ठीक नही है लो बात करो । फोन पर फिर उनके ठहाके की आवाज सुनाई दी । कुछ नहीं डॉक्टर ने किडनी की problem बताई है homeopathic इलाज शुरु किया है । उस दिन उन्हें तुरंत नोयडा आने को कहा था । किडनी मैं दूंगी बोली थी मैं । 11 जनवरी को पता चला वो पंचतत्व में विलीन हो गए……….. कल फिर फोन लगाया बेटी कह रही थी आंटी हमें आपका इंतजार था ।पापा मेरे सपने में अक्सर आते हैं। लीजिए मम्मी से बात कीजिये ,वहां से रोने की आवाज आई बोलीं पन्त मैडम मैने उनकी ज़िंदगी भर सेवा की साथ दिया लेकिन एक महीना हो गया बेटी के सपने में आए मेरे सपने में क्यों नही आए वो भारी आवाज़ और वो रुदन का मर्म दिल में भारी पन ला रहा था।मैं इधर चुप चाप आंसू बहाने लगी और उस उस मार्मिक शिकायत के मर्म का अहसास करती रही। 🙏✍️

Published by (Mrs.)Tara Pant

बहुत भाग्यशाली थी जिस स्नेहिल परिवार में मेरा जन्म हुआ। education _B.Sc. M.A.M.ed.

4 thoughts on ““मर्म उसका”

  1. यादव जी के प्रति आपकी सच्ची श्रद्धांजलि का मर्म समझ सकती हूँ।अब तक कई अनजान शहरों / देशों में जाकर रहने के बाद लगता है कि अच्छे पड़ोसियों के सहारे से ज़िंदगी वाक़ई बहुत आसान हो जाती है।भाग्यशाली हूँ कि अब तक सभी लोग बहुत अच्छे मिले .. ख़ासकर मुंबई में मेरी पड़ोसन ‘दिलखुशआंटी ‘ यथा नाम तथा गुण …जीवन मंत्र “बी पॉसिटिव ” सिखातीं और हर मुश्किल और ख़ुशी में साथ खड़ी रहतीं ।

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: