✍️ एक तम्मना

अभी तो झुर्री नही पड़ीं थीं, उम्र कहां थी जाने की। अभी तो ख्वाइश जीतने की थी,” हार”कहां पहनाने की। अभी तो जीना वर्षों का था, ” बिदा” कहाँ कह पाने की। अभी तो घर की रौनक थे तुम, अभी वहां से कहां गए। दिल की बाज़ी जीते थे तुम , किडनी से क्यों हार गए । ग्लानि बहुत है ,हमको भी तो, कुछ भी ना कर पाने की।पर बिटिया की एक तम्मना पापा को पा जाने की।✍️


	

Published by (Mrs.)Tara Pant

बहुत भाग्यशाली थी जिस स्नेहिल परिवार में मेरा जन्म हुआ। education _B.Sc. M.A.M.ed.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: