स्वप्न

जिंदगी में किसी की भी नही हकदारी है…. फिर भी है एहसास…. जिंदगी में मेरे जो अपने हैं … उनकी भी तो जिम्मेवारी है । जिंदगी गर क्षण भर का सपना है, तो तकिया और चादर तो बनानी होगी …. एक सपने के लिए नींद भी तो अच्छी आनी होगी ।✍️

Published by (Mrs.)Tara Pant

बहुत भाग्यशाली थी जिस स्नेहिल परिवार में मेरा जन्म हुआ। education _B.Sc. M.A.M.ed.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: