वो तीन घण्टे ।🙄☺️

वे तीन घण्टे पल की तरह छोटे थे। कितने बंधे बंधे से थे । हाथ की नोट books बाहर रख examination room में enter करना लगता सब कुछ भूल चले थे।
Answer sheet मिलते ही Roll numberआदि लिखना। Question paper देखने से पहले मन ही मन ईश्वर का स्मरण करना।
पेपर मिलते ही पूरे प्रश्न-पत्र को देखना कि कितने प्रश्नों के उत्तर आते हैं। 10 मिनिट तो इन्ही कामो में लग जाते।
प्रश्नों का उत्तर लिखते हुए बीच में ही invigilator का first page check करना बुरा लगता ।
दूसरे प्रश्न का उत्तर पूरा भी न हो पाता कि घण्टे की टन्न की ध्वनि सतर्क करती कि एक घण्टा हो चुका।
दूसरा घण्टे में दूसरा तीसरा पूरा होते होते चौथे प्रश्न को पढ़ रहे होते थे और
चौथा प्रश्न शुरू ही किया होता कि घण्टे की टन्न आवाज फिर सतर्क करती कि बस अब एक बचा है ।
पांचवां प्रश्न का उत्तर शुरू ही किया होता तो अचानक वो घण्टा बचता जिसमें invigilator कहती केवल 15 मिनिट बचे हैं इसके साथ ही एक सफेद सुतली(thread) सबके table में रख कर कहतीं कॉपी बांध लो, bind your answer sheets.
उनके आगे ही बढ़ते हम फिर लिखना शुरू कर देते थे।
कुछ तो तब तक खड़ी रहतीं जब तक कॉपी बांध न लें।
कैसा भयानक होता था वो पल जब अगले अंतिम घण्टे की आवाज बजते ही invigilator कॉपी छीन कर ले जातीं।
बाहर आते ही हम question paper में solved questions पर टिक करते । कई पेपर तो बहुत अच्छे जाते पर कुछ में प्रश्न छूट भी जाते थे।
अब लगता है वे तीन घण्टे जीवन का सार थे । ✍️

Published by (Mrs.)Tara Pant

बहुत भाग्यशाली थी जिस स्नेहिल परिवार में मेरा जन्म हुआ। education _B.Sc. M.A.M.ed.

17 thoughts on “वो तीन घण्टे ।🙄☺️

  1. गुजर गई वह हालाते मंजर साहिल क्यो आवाज लगाए,हर घटी,पल परिक्षा के हाल सभी। हम आज भी अपनी जीन्दगी रुपी परिक्षा हाल मे बैठ अनुभव के उतर ही देते रहते है। हालात तभी वही थे आज भी वही मगर तरीका बदल गया। बेहतरीन लेखनी

    Liked by 3 people

  2. मुझे भी बहुत मुश्किल लगता था एग्जाम देना। लेकिन एक दिन कुछ अलग बात हुई। मैं एग्जाम के दिन कक्षा में बेंच पर बैठा था और सोच रहा था की तयारी ठीक ठीक सी है पता नहीं पेपर कैसा होगा। फिर मन में आया की कितने लोग हैं जिन्हे इस बेंच पर बैठ कर पेपर लिखने का सौभाग्य मिलता है। बहुत बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं जो सारा जीवन गरीबी और मजदूरी में निकल देते हैं। कभी स्कूल भी नहीं जा पाते और यूनिवर्सिटी तो बहुत दूर की बात है। मैंने उस पल का धन्यवाद् किया की मैं इस बेंच पर बैठा हूँ और मुझे सौभाग्य मिला है यह पेपर देने का जो लाखों लोगों के लिए सपना मात्र है। मैं कितना खुशकिस्मत हूँ। जब यह विचार आया तो मेरा संशय और डर दूर हो गया। अब ऐसा है की कुछ न कुछ पढता ही रहता हु की परीक्षा देने का मौका मिलेगा और बार बार उस एहसास को जीने का मौका मिलेगा।

    Liked by 2 people

  3. अरे! दी आपके वक़्त में भी ऐसा ही होता था?😜
    आप भी सामने ही खड़ी रहती थीं क्या, बांधने तक😂…
    मतलब हम बच्चों पे थोड़ा सा भी रहम मत करिएगा ।
    💕💕

    Liked by 2 people

Leave a Reply to Vikas Dhavaria Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: