मन की ।🎈🎈🎈

मन तू मौन नहीं रहता है ।
कितना भी चाहूँ मैं,
तू अपनी ही कहता है ।
इधर उधर डोले है,
जो मन आये बोले है ।
औरों की भी, तो … सुन ।
तू क्यों नहीं सुनता है ?
मन तू मौन नहीं रहता हैं ?

कुछ ठान लिए बैठा है ।
कुछ मान लिए बैठा है ।
इतनी भी मनमानी कैसी ? जो…
इक तरफा तेरी धुन,
क्यों सबको तू धुनता है ?
गुण औरों के भी तो गा …
बस अपनी कही सुनता है ?
मन तू मौन नहीं रहता है ।
कितना भी चाहे
तू क्यों नहीं सुनता है ….
मन तू मौन नही रहता है …। ✍️

Published by (Mrs.)Tara Pant

बहुत भाग्यशाली थी जिस स्नेहिल परिवार में मेरा जन्म हुआ। education _B.Sc. M.A.M.ed.

20 thoughts on “मन की ।🎈🎈🎈

  1. चाह गई चिंता गई, मनुआ बेपरवाह।
    जाके कछु न चाही, होई सहंसाह।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: