मदर्स डे💖

माँ ने ऐसा feed किया ,कुछ दूध में अपने घोल कर ।सबकी चिंता रही उसे,बस अपनी चिंता छोड़ कर ।अक्सर बेटी त्याग- भाव में,कितना कुछ कर जाए।“नारी तुम केवल श्रद्धा हो”,इस पथ को अपनाए । सिद्दार्थ छोड़ घर से जब निकले,गौतम बुद्ध बन आते और यशोधरा कहती चिंतित हो “सखी वो मुझ से कह करजातेContinue reading “मदर्स डे💖”

रिश्ते…।🎉💝

जीवन इक उम्र में गंगा के बहाव सा …..उसमें लगी एक डुबकी सा…..जिस में नाक बंद करडुबकी लगाते ही पल भर में बाहर निकल आते हैं हम ….पानी बह जाता है आगे…..माँ पिता के छूट जाने जैसा ….बस भीग जाते हैं हम….साथ आया वो गीलापन…वे पानी की बूंदें…..भाई – बहन के साथ जैसा…..इस उम्र मेंContinue reading “रिश्ते…।🎉💝”

जब रोटी से मैसेज जाते थे।💕🇮🇳

कितना सुंदर देश ये मेरा।कितना खूब था यहाँ सवेरा ।कहीं अज़ान, कहीं भजन थे ।कहीं चर्च की थी घण्टा ध्वनि,कहीं पे भक्ति की थी धूनी । देश में था इक भाई चारा,गाँधी विचार की बहती धारा।जब भी दुश्मन ने ललकारा,सबने मिलकर उसे नकारा।देश में था मिलजुल कर पहरा,रिश्ता था आपस में गहरा। क्या देश नहींContinue reading “जब रोटी से मैसेज जाते थे।💕🇮🇳”

काफिर हो या तू मोमिन।🌸💕

काफिर हो या तू मोमिनएक दिन तो जाएगा।एक जाए अग्नि रथ में,दूजा जमीं में समाएगा ।फूलेगा फूंकना तब तकजब तक हवा है तुझमेंबाद में तो आत्मा या रूह कहलाएगा।पानी को ‘आब’ कह लेया आब को तू पानीप्यासे से कुछ भी बोल,वो तो प्यास अपनी,इसी से बुझाएगा।कहले खुदा तू उसकोया कहले तू उसको ईश,अपनी मति सेContinue reading “काफिर हो या तू मोमिन।🌸💕”

तिरंगा। 💝🙏

सच में तिरंगा कितना प्यारा।हम सबको ये लगता न्यारा।हरा रंग हरियाली देता ।शांत ‘श्वेत रंग’ मन को करता ।केसरिया कितना बल भरता।चक्र हमें चलने को कहता ।भारत माँ का राज दुलारा।हमें तिरंगा कितना प्यारा। ✍️,🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳

उम्र- दराज़🎈

जैसे जैसे उम्र है निकलीरिश्ते बिखर गए।जैसे जैसे उम्र बड़ी तोवो भी निखर गए ।झूठे सपने पाल रहे थे।जो अब उनकोसाल रहे थे।सपने और उनके अपने भीजाने किधर गए….जैसे जैसे उम्र है निकलीरिश्ते बिखर गए। विधि के विधान का लेखहै अपना,“आज रहे जो“कल हो सपना”पल भर के अपने सपनेनिंद्रा में इधर रहे।नींद खुली तो तन्द्राContinue reading “उम्र- दराज़🎈”

कमाल खान नहीं रहे।😪

कभी कभी दुख सुख पर कितना हावी हो जाता है।सवेरे सवेरे शकरपारे बनाए मकर संक्रांति के लिए।कुछ देर पहले ही ndtv के reporter कमाल खान जी के अचानक निधन की दुखद खबर सुनी । त्योहार एक ओर रह गया है ।बहुत बुरा लग रहा है। कितना अपनत्व था उनकी आवाज में । लखनऊ की गरिमामयीContinue reading “कमाल खान नहीं रहे।😪”

सर्व धर्म समभाव।🌺🙏

घृणाभाव से जला था दीपक ।दीपक में लग गई थी आग।उस आग से जल कर बत्ती,बनकर बैठ गई थी नाग।दिया नही था पूजा का वो,जो रखा पूजा की ओट।उसी ओट से नकली हिन्दू,करते है धर्मों पे चोट ।दया भाव है धर्म हमाराधर्म सभी देते हैं ज्ञान।इसी लिए तो सब धर्मों का,हम करते आए सम्मान ।धर्मोंContinue reading “सर्व धर्म समभाव।🌺🙏”

वो ग्रीटिंग कार्ड्स।🌹✍️

कभी एक craze था New year’s Day में अपने near and dear ones के जितने greetings आते उन्हें ड्राइंग रूम में सजाते उन्हें गिनते और room में आते ही सबका center point of attraction भी वही रहता ।कोई कहता इतने सारे । कोई कहता इतने सुन्दर, कोई message पढ़ता । घर में भी वो कार्ड्सContinue reading “वो ग्रीटिंग कार्ड्स।🌹✍️”