दुख-सुख 😪🌻

दुख पहाड़ के पत्थर सा है

सर पर गिरता है।


ज्यूँ संगमरमर की


सीढ़ी पर


पैर फिसालता है

सुख फूलों की बारिश सा है।

देवों का एहसास ।

तन मन प्रफ्फुलित कर देता,

छू लेता है आकाश।

अपनों का अपनत्व रहे जब

अपने आस पास ।

दुख भी तन्हा नही रहे,

वो रखता है इक आस।

जीवन झरना है अनुभव का,

बहता ही रहता है।

इंद्रधनुष के रंग लिए

धुन अपनी कहता है।

कभी बना "बच्चन- मधुशाला

कभी "अश्रु" नीरज के बन,

आँखों में रहता है। ✍️

Word Press💖 वर्ल्ड प्रेस💖

कितना प्यारा ‘वर्ड प्रेस’ ये
दिल को ‘हाइक’ ले चलता है।
इस एकाकी पन में हमसे

लाइक-लाइक कहता है।
कितना सूदिंग वर्ड है लाइक

डिसलाइक से तीन है कम।
तीन की संख्या कम हो चाहे,
कितना होता इसमें दम।
लॉक्ड डाउन में इसने अपना

कितना साथ निभाया है।

अनजानों को साथ में लाकर

मानव- प्रेम पढ़ाया है।

दुनिया का ईश्वर एक ही,
एक ही अपना रचनाकार।
लोगों ने चाहे मनचाहे,
अपने दिए हैं इसे आकार।

एक सी भाषा हँसने की है,
एक ही भाषा रोने की
एक ही चेहरा मुस्कानों का,
एक सा ही तो गाने का।
शब्द भले हों अलग अलग
पर बातें कितनी अपनी सी ।

भक्ति करी गर मन्दिर में तो
इसने मस्ज़िद भी पहुंचाया ।
दर्द बड़ा था जब भी अपना
चर्च ने भी आ सहलाया ।

ईश्वर ने कर प्यार हमें
कितने उपहार हैं दे डाले।
देखो वर्ड प्रेस में आकर
‘एकाकार-प्रेम’ को कैसे
रखा इसने है पाले। ✍️

माँ की सातवीं बेटी 💕🌷

कानपुर की कुछ धुंधली सी यादेँ हैं पर बीना के जन्म की याद नहीं। इसके जन्म के कुछ महिने बाद बबीना ट्रांसफर हो गया था डैडी का । हाँ इसको गोदी में घुमाने की याद है । माँ सुलाते समय कुछ लोरी सा गाती थीं। पड़ोसियों के घर वालों के नाम लेकर और कुछ दूर बने कॉलोनी के ओवर हेड टैंक को “टंकु” कह कर । ये बहुत देरी से सोती। वो गातीं “दत्ता बाबू के बॉबी को टंकु ले गया” ये डर कर आंखे बंद करती और सो जाती थी।

उस दिन माँ बहुत घबराई सी देखीं थीं। घर में सब ‘बच्चे’ को ढूंढ रहे थे ।’बच्चा’ कहां गया, ‘बच्चा’ कहां गया ? घर के पीछे एक पानी से भरा गड्ढा था लोग उसे डंडे से खंगालने लगे थे, इसमें तो नही गिरा । माँ सीधे पानी से भरे उस गड्ढे में कूद गईं थीं। बच्चे को ढूंढ़ने। बचपन में बीना को सब “बच्चा” नाम से ही बुलाते थे । फिर किसी एक की नज़र उस टंकी पर पड़ी जिसके साइड में बनी खड़ी सीमेंट की सीढ़ियों से ये बच्चा कुछ ऊपर चढ़ गया था। उन खड़ी सीढ़ियों से बड़ी सावधानी से उसे नीचे उतारा गया । गिर जाने का डर जो था । बच्चा डेढ़-दो साल की आयु का रहा होगा । सब चिल्लाए ‘बच्चा मिल गया’ मिल गया । माँ ने अपने आंसू पोछे और घर जा कर पूजा में घंटी बजाने लगीं थीं । ‘बच्चा’ जो मिल गया था।

यादें फिर माँ को समीप ले आईं हैं और एक आवाज माँ की भी आ पहुंची ,”Happy birthday dear Beena.🔔🔔🔔💕… ✍️

“चाय वाला वो बच्चा।”🚶🏃

आज फिर उसकी याद आ गई।वैसे तो सड़क के सफर में अक्सर सड़क -किनारे वाली चाय पीना पसन्द करती हूँ। अधिकतर एक बड़े से हरे भरे पेड़ के नीचे उनका चार पहिये पर ठेला आकर्षित करता है और यहां पेड़ की हवा एक रेस्तरां के एसी से कहीं अधिक लुभावनी होती है और बहुत प्यार से बनाते हैं ये लोग चाय। उनका चीनी कम या ज्यादा पूछना बहुत आत्मीय और सम्मान सा देता है ।
आज स्कूल के बाहर चाय वाले की भी यादआई तो मिसेज.वाजपेयी को ग्वालियर फ़ोन लगा कर नाम पूछा । नाम भूल गई थी चाय वाले का । हाँ उन्होंने याद दिलाया ‘लाले’ था वो । एक मुस्कुराता सौम्य सा चाय वाला ।मुश्किल से उम्र 20-22 वर्ष रही होगी उसकी । ठेला नहीं था उसके पास। एक मेज पर अपना स्टोव रखता था। विद्यालय के ठीक सामने हाई कोर्ट के कई वकील उसकी चाय पीने आते । उस दिन 15 अगस्त था। एक बच्चा चाय की केतली और कप लेकर कार्यालय के बाहर खड़ा था ।उसकी नजर दौड़ते हुए उन सैकड़ों बच्चों पर थी जो हाथों में छोटे तिरंगे और बैलून लिए थे। सरस्वती बाई एक कप चाय उस से ले आई थी । वो अभी भी बच्चों को देख रहा था । मैंने कार्यालय में कार्य रत कमलेशजी से उसे बुलाने को कहा ।वो शर्माता हुआ अंदर आया। उसके हाथ में जब मैंने झंडा और बैलून दिए, वो खुशी में इतनी तेजी से दौड़ा कि उसकी उस खुशी को देखने के आनंद का एहसास आज भी है।
वो दो तीन दिन बाद फिर मेरे कक्ष के बाहर खड़ा था।मैंने उसे अपने पास बुलाया पूछा ‘लाले’ कौन है तुम्हारा ? वो बोला मेरे मामा हैं। मैंने पूछा स्कूल क्यों नहीं जाते हो ? बोला छोड़ दिया । पहले गाँव में पढ़ता था।पूछने पर, पढ़ोगे तो बोला हाँ पढूंगा। उसे इलमारी से एक नोट बुक में अक्षर लिख कर पूछे तो उसने एक ही बार में पढ़ लिए थे। अंग्रेजी के कैपिटल लेटर्स भी उसने पढ़े लेकिन स्माल लेटर्स वो नही पढ़ पाया था। उसे एक नोट बुक में प्रति दिन कुछ लिखने को देती वो उत्साह से लिख कर लाता। उस दिन दोनों हाथ जोड़ते हुए बोला मैडम मेरा दाखिला भी कर दो ।
न जाने क्यों उस बच्चे में क्या था कि रात भर सोचती रही उसका विद्यालय में कैसे प्रवेश कराऊँ । मेरे विद्यालय के 2nd क्लास के बच्चों का अध्धयन स्तर उस से कहीं अधिक था और उम्र भी उसकी लगभग 10 वर्ष रही होगी।
दूसरे दिन मराठा बोर्डिंग के निकट स्थित सरकारी प्राथमिक विद्यालय का विचार आया । वहाँ के प्रधानाध्यपक श्री नागेंद्र जी से चर्चा करने पर मैंने उनसे मिलने की अनुमति ली ।
फिर लाले की चाय की दुकान आते ही मैंने जैसे ही कार रोकी बच्चा मुस्कुराया । मैं बोली थी आ जाओ तुम्हें घुमा कर लाऊं। वह अपने मामा (लाले) का मुँह देखने लगा।
फिर दौड़ कर आ गया। मैंनें कहा आओ बैठो तुम्हें एक स्कूल दिखाऊँ वो बहुत खुश था।उसे रास्ते में सब समझा दिया था कि वो बहुत अच्छा बच्चा है ,स्कूल में जाकर नमस्ते कहना है और जो पूछा जाए उसका उत्तर देना।
प्रधानाध्यापक नागेंद्र सर की कृपा से बच्चे को 5वीं में प्रवेश मिल गया था इस विश्वास पर कि बच्चा मेहनत कर लेगा ।
वो अक्सर अपने विद्यालय में किया गया कक्षा-कार्य दिखाने आता।एक अजीब सी लगन थी उस बच्चे में। मैं भी अपने को न रोक पाती उसकी नोट बुक में एक पेपर में very good लिख कर रख दिया करती।
मई जून का महीना रहा होगा। वो कक्ष के बाहर खड़ा था आज उसके हाथ में चाय की केतली नही थी वह अपना परीक्षा परिणाम लेकर मुस्कुरा रहा था। अपने को रोक नही पाई थी। उसके हाथ से रिजल्ट ले लिया था । वो बहुत अच्छे अंकों से उत्तीर्ण हो गया था । मैंने खुशी से उसे अपने विद्यालय के झूले में बिठा कर जोर से झुलाना शुरू कर दिया था।
आज बहुत दूर हूँ ग्वालियर से वो भी इन वर्षों में बड़ा हो गया होगा। 19-20 वर्ष की आयु का होगा । मैं भी नौकरी छोड़ कर आ गई थी ।✍️

समय अच्छा चल रहा है।🙏🎉🎉🎉🎉🎉🎉🎉

इस locked down में आज ना जाने क्यों तरुण सागर दिगंबर महाराज जी की याद आ गई। वैसे तो किसी विशेष गुरु की भक्त नहीं हो पाई परंतु कृपालुजी महाराज के वेदों की स्मरण शक्ति एवं तरुण सागर जी के प्रवचन बिना पूरा सुने अधूरा सा लगता। कभी कभी तरुण सागर जी का चेतावनी देते प्रवचन देना धीमे स्वर में बोलते बोलते स्वरों का ऊंचा कर देना जैसे पूरे मस्तिष्क में प्रतिध्वनि पैदा कर देता।
उस दिन उनके प्रवचन का वो किस्सा याद आता है जब उन्होंने अपने मित्र से पूछा,”हाल चाल कैसे हैं ?” मित्र ने उत्तर दिया ,”बस समय काट रहा हूँ।” उसके बाद उत्तर में तरुण सागर जी का प्रतिध्वनित करता वो उत्तर,”अरे तू समय काट रहा है या समय तुझे काट रहा है ?”

Loc ked down के 5 महीने से ऊपर हुए।
तबसे किसी के हाल चाल पूछने पर ये जवाब देने से डरती हूँ कि बस समय काट रही हूँ । तबसे कहती हूँ, ‘ऊपर वाले की कृपा से समय अच्छा चल रहा है ।’✍️

कभी दिल से 💕

कभी स्वयं की बात करो तुम।
कभी तो अपना मुँह खोलो।
कब तक बातें गैरों की होंगी ?
कभी स्वयं की भी बोलो।
बहुत सुना है मन की तुमसे
बहुत कह दिया मन की हमसे।

अब तो दिल से बात करो तुम।
अब थोड़ा दिल को खोलो ।
मन्दिर मस्ज़िद बहुत हो गया
अब विद्यालय भी खोलो ।
जो भूखे सोते हैं घर में
उनके संग भी तुम होलो।
एक ओर हैं मित्र तुम्हारे
सारे भारत में छाए ।
दूजी ओर भरे नयन में
कितने आंसू भी आए ।
उनको पास बिठा कर अपने
प्रेम की भाषा में बोलो।
बहुत सुनी है मन की तुम से
अब थोड़ा दिल से बोलो।✍️

तुझपे दिल कुर्बान🇮🇳🇮🇳🇮🇳

हाथों से दिल तक 💕….छोड़ कर अपनी जमीं को दूर आ पहुंचे हैं हम….फिर भी है बस ये तम्मन्ना तेरे ज़र्रों की कसम…हम जहाँ पैदा हुए उस ज़मीं पे निकले दम…तुझपे दिल कुर्बान.
🇮🇳.

राहत इंदौरी जी अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि।💔🙏🌼🌼🌼

मन बहुत दुखी है । आज सुना राहत इंदौरी साहब नहीं रहे ।मेरे जन्माष्ठमी के त्योहार का उत्साह गमगीन सा हुआ ।राहत जी के दिल और मन की बात सुनना बहुत अच्छा लगता है
….फूलों की दुकान खोलो, खुशबू का व्यापार करो,इश्क़ खता है तो ये खता सौ बार करो।

….लगेगी आग तो आएंगे कई मकान सद में , यहां कोई अपना ही घर थोड़े है

…..अपनी पहचान मिटाने को कहा जाता है,बस्तियां छोड़ के जाने को कहा जाता है।

न जाने क्यों भाव, भाषा, शैली में बहुत अंतर था लेकिन कवि नीरजजी के बाद राहत इंदौरी जी बहुत अपने से लगे थे। दुख है अब कोई दूसरे राहत इंदौरी न आ पाएंगे।कितनी अधूरी सी लगती है कभी ये जिंदगी।अभी तो और भी बहुत सुनने का मन था राहत जी से।
उन्हें मेरी अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि।
🌼🌼🌼💔🙏✍️

Nominated for Liebster Award….


Tara Pant.

Thank you so much dear Anushree Shrivastav for nominating me for this award.

It really means a lot to me. Anushree….really you are blessed with an impressive pen. I read your each and every post on blog and feel the pleasure of the mission -save your daughter and educate her’ (‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ।’) Lots of blessings and love to you.

Dear bloggers…. Please do check Anushree’s blog: https://ashree2412blogspot.wordpress.com//wp.me/pcbSJf-1s

Rules for this award :-

1- Thanks the blogger who has nominated you and provide the link of their blog.

2- Answer the 11 questions given to you.

3- Nominate 11 other blogger and ask your nominees 11 question.

4- Notify your nominees once you have uploaded your post.

My answers :-

1- Introvert or extrovert? Reason?
Ans- Extrovert…… because it is best way of communication .

2- Which is your favourite movie and why?

Ans- Recently I saw a hindi movie , chappar faad ke'(छप्पड़ फाड़ के) I liked that as it tells us usually we people are honest until we get the opportunity to be dishonest.It’s a comedy movie.It alerts the people the real happiness is in honesty.

3- When is your birthday?

Ans- 14th of November.

4- who is your favourite blogger?

Ans- Each and every blogger….has his/her point of attraction.🎉💕

5- Describe yourself in 5 words.

Ans- love kids,want to give support to the needy, faith on one Universal-God’ Emotional,some times angry too.

6- what’s your ambition?

Ans- the blessings of God may be there all around me .🎉🙏

7- What’s special about the country you live in?

🇮🇳
Ans- lndia is a largest democratic country .It’s unity in diversity spreads the rainbow colours and make it very beautiful.People call their country as mother India. The country is also blessed by geographycally.It has sea mountains (Himalaya) rivers deserts etc. It’s culture and places also attract the foreigners to visit India. India.

8- Favourite destination outside your country?

Ans- …Singapore my brother lives there.

9- Best advice by your best friend

Ans- My sisters are my best friends they say, “You are a bold lady.Take it easy.

10 -Your best way of passing time .

Ans- Reading blogs of word press by which I meet with the thoughts of the different people of different countries also . The other best way of my passing time is talking with the children, where I enjoy the childhood .

11- Tell one of your good memory.

Ans- When my mother and father met me first time after my marriage . I was smiling ,they were also smiling but both having tears in their eyes .


Thank you so much bloggers, For reading this

☆ Questions are for the every nominees as below 👇

1_Who named you and what is it’s meaning ?

2_What is your skill or hobby ?

3_Do you feel the presence of God ?

4_What is some thing that you afraid of ?

5 sweet memory of your childhood ?

6_Why do you get angry ?

7_Which flower do you like most ?

8_If you are crossing a land during a hot summer , you see a tree and sit under it What will you say to that tree ?

10_What lesson has COVID 19 Locked down given to you ?

11-What are you thankful for ?

9_If you could meet any poet or writer dead or alive ,who would he/ she be and why ?

Note :- I will separately nominate eleven , each and every blogger on their respective blogs !!

Thanks again to Anushree Shrivastav for supporting my work especially for the nomination. I look forward to reading more your post in future also. Thanks.

राम धुन।🙏

रघुपति राघव राजाराम।
पतित पावन सीता राम।।
सीता राम सीता राम।
भज प्यारे तू सीता राम।।
ईश्वर अल्लाह तेरे नाम।
सबको सन्मति दे भगवान।
रघुपति राघव राजा राम ।
पतित पावन सीता राम।।

संदर्भ: यह भजन हमारे राष्ट्र पिता महात्मा गांधी को बहुत पसंद था। यह भजन हिंदुओं के धार्मिक ग्रंथ ‘गीता’ में दिए भजन से कुछ अलग था जिसमें गाँधीजी ने समय की मांग के अनुसार और सभी धर्मों के लोगों को जोड़ने के लिए कुछ नई पंक्तियों को स्वयं जोड़ा था। स्वतंत्रता के दिनों में यह भजन घर घर गाया जाने लगा। इस भजन ने भावनात्मक रूप से एक दूसरे को बांध दिया था। गाँधीजी के राम केवल हिंदुओं के नहीं वरन सभी धर्मों की अपनी अपनी आस्था के प्रतीक थे । ईश्वर अल्लाह में भी वो समाहित हो जाते थे। गाँधीजी के इस पसंदीदा भजन में देश के लोग केवल प्रेमभाव में मग्न हो जाते थे। यही तुलसी के रामचरित मानस में रामजी का आदर्श मानव चरित्र भी था ।✍️
आइए गाँधीजी के पसंद की ये राम धुन का आनंद लें।,

The devotee of Rama prays him by different names as Raghupati,Raghav or as the Lord Rama He believes that lord Rama can even purify the sinners.He is also called by Allah or God.The devotee prays for good under standung to all people. under standung or wisdom to all the people.

Wordings :
Raghu pati Raghav
Raja Ram.
Patit Pawan Sita Ram.
Sita Ram Sita Ram.
Bhaj Pyare tu SitaRam.
Ishwar allah tere naam.
Sbko sanmati de bhagwaan.
Raghupati Raghav Raja Ram Patit pawan Sita Ram.
Enjoy that Ram dhun.✍️